ख़बर शेयर करें -

ट्रेनिंग के दौरान वन दारोगा और वन आरक्षियों कों वन्य जीव संघर्ष, कैमरा ट्रैप, मीडिया मैनेजमेंट, ड्रोन ट्रेनिंग, फील्ड एक्टिविटी कि जानकारी बारीकी से दी गयी, वन आरक्षी में टिहरी वन प्रभाग की अंजलि रावत को गोल्ड मेडल, जबकि वन दारोगा में पिथौरागढ़ वन प्रभाग के योगेश कार्की कों गोल्ड मेडल से नवाज़ा गया,
दीक्षांत समारोह के अवसर पर अपर मुख्य वन सरक्षक विवेक पाण्डेय ने कहा की वन आरक्षी और वन दरोगा का जंगल के सरक्षण के लिये बहुत महत्वपूर्ण रोल है, उन्होंने कहा कि वनों के संरक्षण और संवर्धन के लिए जिस तरह की ट्रेनिंग दी जानी चाहिए इन 6 महीना के अंदर वह ट्रेनिंग वन दरोगा और वन आरक्षी को दी गई है…. विवेक पांडे ने कहा कि 6 महीने की कड़ी ट्रेनिंग के दौरान जंगल से जुड़ी सभी विधाओं और सभी आयामों को टच करने का प्रयास किया गया है जिससे वन आरक्षी और वन दरोगा जंगलों के प्रति सच्ची कर्तव्य निष्ठा से काम कर सकें,

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी हिंसा को लेकर क्या बोले जांच अधिकारी कमिश्नर दीपक रावत