ख़बर शेयर करें -

यूट्यूब चैनल लाइक और सब्सक्राइब से कमाई का झांसा देकर ठगने वाले एक और साइबर ठग को साइबर थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी के खिलाफ 20 राज्यों में 113 शिकायतें हैं। आरोपी ने लोगों से अब तक 28 करोड़ रुपये की ठगी की। इससे पहले एक अन्य आरोपी को पुलिस लुधियाना से गिरफ्तार कर चुकी है।

एसएसपी एसटीएफ आयुष अग्रवाल ने बताया कि पिछले दिनों सन्नी जैन ने साइबर थाने को शिकायत की थी। सन्नी को व्हाट्सएप पर एक मैसेज आया था। इसमें उन्हें दो से चार हजार रुपये प्रतिदिन कमाई करने का झांसा दिया गया था। इस पर दिए गए लिंक पर जैसे ही सन्नी ने क्लिक किया तो उन्हें टेलीग्राम के एक ग्रुप पर जोड़ लिया गया।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल में भारी बारिश के रेड अलर्ट के चलते, जारी किए गए यह निर्देश

यहां उन्हें यूट्यूब चैनल के लिंक दिए गए और सब्सक्राइब करने को कहा। दो-चार दिन उन्हें 100-200 रुपये की कमाई कराई, लेकिन बाद में बड़ा टास्क देने के नाम पर रुपये हड़पने शुरू कर दिए। कुल मिलाकर सन्नी से साइबर ठगों ने 14 लाख रुपये हड़प लिए।

पुलिस ने जांच करते हुए पिछले दिनों हरमीत सिंह बेदी निवासी चंडीगढ़ को लुधियाना से गिरफ्तार किया। उससे पूछताछ में पता चला कि वह किसी मोहम्मद वकार के साथ मिलकर काम करता है। पुलिस इस वकार की तलाश में जुट गई। उसे सोमवार को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपी मूल रूप से जोधपुर राजस्थान का रहने वाला है। आरोपियों ने पूरे देश से करीब 28 करोड़ रुपये ठगे हैं। इनके अन्य साथियों की भी तलाश की जा रही है।आरोपी ने क्रिप्टो करेंसी में भी लगाया पैसा
आरोपियों ने पीटूपी क्रिप्टो ट्रेडिंग भी की है। इसके जरिये विदेशों में पैसा भेजा गया है। पीटूपी क्रिप्टो ट्रेडिंग बेहद खतरनाक है। इसमें यह पता नहीं चल पाता है कि क्रिप्टो किससे खरीदा गया था और आगे किसे बेचा। अक्सर अपराधी धोखाधड़ी के पैसे खरीदे गए क्रिप्टो करेंसी को उन लोगों को बेचते हैं, जो आगे किसी और को बेच देते हैं। इस तरह वह अपना पैसा विदेशों में भेज देते हैं